Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET

Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET
Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET  

  


UPTET 2019 Most important   मनोविज्ञान के प्रशन

शिक्षण है--

एक प्रकार का पारस्परिक प्रभाव

शिक्षण एक प्रकार का पारस्परिक प्रभाव है जिसका उद्देश्य है।

दसरे व्यक्ति के व्यवहारों में वांछित परिवर्तन लाना।" यह कथन

है-
गेज महोदय का

.

 शिक्षण का अर्थ है

                            सीखने में वृद्धि करना

. ज्ञान प्रदान करने की प्रक्रिया है
शिक्षण


. शिक्षण के तत्व हैं-

कक्षा, विद्यालय, समाज
-

Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET

Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET
Objectives of teaching method (AIMS)| pedalog  Important Questions UPTET 

 उद्देश्य के आधार पर शिक्षण के प्रकार हैं


(1) ज्ञानात्मक शिक्षण
(2) भावात्मक शिक्षण
(3) मनोगत्यात्मक शिक्षण

. शिक्षण के स्तरों के आधार पर शिक्षण के प्रकार


(1) स्मृति स्तर, (2) बोध स्तर, (3) चिन्तन स्तर



|- शासन प्रणाली के आधार पर शिक्षण के प्रकार हैं


(1) एकतन्त्रीय शिक्षण
(2) लोकतंत्रीय शिक्षण
(3) हस्तक्षेप रहित शिक्षण

- शैक्षिक व्यवस्था के आधार पर शिक्षण के प्रकार हैं


(1) औपचारिक शिक्षण
(2) अनौपचारिक शिक्षण
(3) औपचारिकेत्तर शिक्षण

- शिक्षण की अवस्थाएं हैं

 (1) पूर्व क्रिया अवस्था

(2) अन्तः प्रक्रिया अवस्था
(3) उत्तर क्रिया अवस्था
-

 पूर्व क्रिया अवस्था है-

 कक्षा में जाने से पूर्व की गई क्रिया


अंत क्रिया अवस्था है


-कक्षा में जाने के बाद की गई क्रिया

उत्तर क्रिया अवस्था है- सीखे गये कार्य का शिक्षक

द्वारा मूल्यांकन करना


. शिक्षण विधियाँ हैं-


 शिक्षण को रुचिपूर्ण एवं प्रभावशाली
बनाने का तरीका


शिक्षण की विधियाँ हैं


) व्याख्या विधि
12) स्पष्टीकरण विधि
(3) विवरण विधि
(4) वर्णन विधि
(5) कहानी कथन विधि
(6) निरीक्षित अध्ययन विधि

(7) उदाहरण विधि

(8) प्रत्युत्तर विधि

व्याख्या विधि है 


कठिन अंशों को सरल बनाना

- एक पूर्ण एवं विस्तृत कथन होता है- 


स्पष्टीकरण विधि में
सामाजिक विज्ञान के लिए आवश्यक विधि है- विवरण विधि
- पूर्ण शाब्दिक चित्र प्रस्तुत करके समझाया जाता है-वर्णन विधि
-
 कहानी कथन विधि द्वारा- सूक्ष्म तथा जटिल अंशों को
सरल बनाया जाता है
। व्यक्तिगत भिन्नता तथा क्रियाशीलता के सिद्धांत पर आधारित
विधि है

निरीक्षित अध्ययन विधि


. उदाहरण प्रविधि का प्रयोग किया जाता है

छात्रों की विचार शक्ति तथा कल्पना शक्ति

के विकास एवं वृद्धि के लिए
Method (विधि) शब्द लिया गया है- लैटिन भाषा से
प्रदर्शन विधि की विशेषता है- शिक्षक एवं छात्र दोनों
सक्रिय होते हैं

- प्रदर्शन विधि उपयोगी होती है- छोटी कक्षाओं के लिए


"शिक्षण कौशल छात्रों के सीखने के लिए सुगमता प्रदान करने
के विचार से सम्पन्न की गयी सम्बन्धित शिक्षण क्रियाओं या

व्यवहारों का समूह है।" यह कथन है- डॉ. वी. के. पासी

- कक्षा-कक्ष में अपने शिक्षण को प्रभावशाली बनाने को कहते हैं
शिक्षण कौशल

. शिक्षण कौशल की विशेषता है

प्रक्रिया एवं व्यवहार सम्बन्धित

. विशिष्ट लक्ष्यों की प्राप्ति में सहायक है- शिक्षण कौशल

- शिक्षण कौशल प्रभावशाली बनाते हैं- शिक्षण प्रक्रिया को
. शिक्षण कौशल से सक्रिय बनाया जाता है

समस्त अन्तःक्रिया

सूक्ष्म शिक्षण है
एक प्रकार का कौशल
- सूक्ष्म शिक्षण आधारित है- शिक्षण कौशल पर
- सर्वप्रथम शिक्षण कौशल सूची तैयार की गई

स्टैनफोर्ड वि. वि. तथा कैलीफोर्निया वि. वि.

सूक्ष्म शिक्षण के अन्तर्गत शिक्षण कौशल निर्मित है

प्रो. वी. के. पासी द्वारा 13 सूची

आगमन विधि के जनक हैं

अरस्तू
उदाहरण से नियम तक पहुंचता है

आगमन विधि

आगमन विधि उपयोगी है-

 प्राथमिक शिक्षा के लिए

। शिक्षण सूत्र है


1) ज्ञात से अज्ञात की ओर
2) सरल से जटिल की ओर
3) अनिश्चित से निश्चित की ओर
(4) अनुभव से युक्तियुक्त की ओर
(5) मूर्त से अमूर्त की ओर
6) विश्लेषण से संश्लेषण की ओर

7) प्रत्यक्ष से अप्रत्यक्ष की ओर
8) विशिष्ट से सामान्य की ओर
9) मनोवैज्ञानिक से तार्किक क्रम की ओर

10) आगमन से निगमन की ओर
(11) पूर्ण से अंश की ओर

. छात्रों के पूर्व ज्ञान के आधार पर नवीन ज्ञान देना


ज्ञात से अज्ञात की ओर

. सरल प्रत्यय के क्रमानुसार जटिल प्रत्यय बताइए


सरल से जटिल की ओर

। शिक्षक छात्रों की निश्चित धारणाओं को निश्चयात्मकता प्रदान
करता है

अनिश्चित से निश्चित की ओर

 ठोस अनुभूत सत्यों की अनुभूति के बाद ही युक्तियुक्त चिन्तन
आता है

अनुभव से युक्तियुक्त की ओर

स्थूल पदार्थों से सूक्ष्म विचारों को ग्रहण करना


मूर्त से अमूर्त की ओर

- किसी तथ्य या समस्या को बांटना है-

विश्लेषण

। सूचनाओं को जोड़कर समग्र रूप से समझना है- संश्लेषण

। ज्ञान को स्थायित्व प्रदान करता है

संश्लेषण

वर्तमान ज्ञान के बाद भूत अथवा भविष्य का ज्ञान देना है

प्रत्यक्ष से अप्रत्यक्ष की ओर

। विशिष्ट नियम से सामान्य नियम की ओर पहुँचना


विशिष्ट से सामान्य की ओर

- मनोवैज्ञानिक ढंग से शिक्षण के पश्चात मानसिक विकास के

अनुकूल ज्ञान को तर्क सम्मत बनाना है

मनोवैज्ञानिक ज्ञान से तार्किक ज्ञान की ओर


आगमन विधि है-
उदाहरण से नियम की ओर

नियम से उदाहरण की ओर है-
निगमन विधि

नये ज्ञान की खोज में सहायक है-

आगमन विधि

. शिक्षक को शिक्षा प्रदान करना चाहिए- आगमन से निगमन

. खोज के फलस्वरूप प्राप्त ज्ञान है

निगमन विधि

. निगमन विधि से शिक्षण होना चाहिए- आगमन के पश्चात्

निगमन विधि के जनक हैं

अरस्तू

निगमन विधि


। प्रमाण से प्रत्यक्ष की ओर

. निगमन विधि है

योजना पद्धति है

किलपैट्रिक हैं

। प्रयोग में विश्वास करता है

प्रयोजनवाद के जनक हैं

 जॉन डीवी


किण्डर गार्डन विधि के जनक हैं- फ्रोबेल
निगमन विधि उपयोगी है- उच्च कक्षाओं के लिए
। किण्डर गार्डन का शाब्दिक अर्थ है- बच्चों का बगीचा
मारिया मांटेसरी जनक हैं- मोंटेसरी विधि की



आर्मस्ट्रांग जनक हैं -खोज विधि 
.
ह्यूरिस्टिक शब्द है- ग्रीक भाषा का
महात्मा गांधी जनक हैं- बेसिक शिक्षा प्रणाली
वर्धा योजना के प्रतिपादक हैं -महात्मा गांधी
वर्धा योजना लागू हुई -1937 में
सुकरात जनक हैं- प्रश्नोत्तर विधि
संवाद विधि के जनक हैं- प्लूटो
कविता इस विधि द्वारा याद कराई जाती है- पूर्ण से अंश की ओर


। शिक्षण होना चाहिए

बाल केन्द्रित


बाल-केन्द्रित शिक्षा का सम्प्रत्यय देन है-

मनोविज्ञान की

प्रश्न- डाल्टन विधि का प्रवर्तक कौन था?

उत्तर- हेलेन पार्खस्ट

प्रश्न- डाल्टन पद्धति का क्या अर्थ है?

उत्तर- इस पद्धति में बालकों को उनकी कार्यक्षमताओं के अनुसार
बाँट दिया जाता है। बालकों पर समय-सारिणी तथा परीक्षा का

कोई बंधन नहीं होता है।
प्रश्न- किण्डर गार्टन पद्धति से आप क्या समझते है?

उत्तर- इस पद्धति में फ्रोबेल ने बालक को खेल, गीतों और उपहारों
के माध्यम से शिक्षा देने पर बल दिया है। बालक ऊन की
गेंदो, लकड़ी के टुकड़ों, तख्तियों आदि से खेल-खेल में
गणित तथा रेखा गणित का ज्ञान प्राप्त करते हैं।

प्रश्न- किण्डरगार्टन शब्द किस भाषा से प्रयुक्त हुआ है?

उत्तर- जर्मन भाषा से

प्रश्न- किण्डर गार्टन शब्द का अर्थ है?

उत्तर- बच्चों का बगीचा

प्रश्न- मांटेसरी पद्धति क्या है?

उत्तर- मेरिया मान्टेसरी ने बालकों को अनेक वस्तुएँ खेलने को देने
की बात कही है जिससे बालक खेल-खेल में अनेक बातें

सीख लेता है।
प्रश्न- अन्वेषण विधि को स्पष्ट कीजिए?

उत्तर-अन्वेषण विधि को अंग्रेजी में 'हियुरिस्टिक्स मेथड' कहते हैं,
जिसका अर्थ है मैं खोजता हूँ। इस विधि के प्रवर्तक
आर्मस्ट्रांग थे।

प्रश्न- अन्वेषण विधि से क्या तात्पर्य है?

उत्तर- 'अन्वेषण विधि का तात्पर्य शिक्षण की उस विधि से है,
जिसमें बालकों को खोज करने वाले की स्थिति में रखकर
बिना किसी विशेष निर्देशन के उन्हें स्वयं खोज या नवीन

ज्ञान अर्जित करने का अवसर दिया जाता है।'
प्रश्न-निरीक्षण विधि का शिक्षण में क्या महत्व है?

उत्तर- यह मनोविज्ञान विधि है। इसके प्रयोग से छात्रों की ज्ञानेन्द्रियों
का विकास होता है।


 ऐसे ही आर्टिकल बढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर बने रहे

Post a Comment

हमारी दी गई सूचना आपके लिए यूज़फुल लगी क्या?
Yeas Or No

Previous Post Next Post